राष्ट्रीय रेल संग्रहालय

Short information

  • Location: Chanakyapuri, New Delhi, Delhi 110021
  • Timings: 09:30 am to 05:30 pm
  • Monday Closed. 
  • Nearest Metro Station : Dhaula Kuan Metro Station at a distance of nearly 4.4 kilometres and Race Course Metro Station at a distance of nearly 5.9 kilometres from National Rail Museum.
  • Entry Fee: Rs. 20 per head.
  • Photography Charge: Pay some extra money for the DSLR along with the entrance tickets.
  • Did you Know: National Rail Museum, New Delhi has found its name in the Guinness Book of World Records. It has also been awarded the National Tourism Award

राष्ट्रीय रेल संग्रहालय एशिया का एक अपनी तरह का संग्रहालय है। राष्ट्रीय रेलवे संग्रहालय दिल्ली का सबसे लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है। यह भारत के रेलवे इतिहास का वर्णन करता है यह संग्रहालय लगभग 11 एकड़ जमीन में बना हुआ है। यह ऐतिहासिक संग्रहालय नई दिल्ली के चाणक्य पुरी के दूतावास क्षेत्र में स्थित है। भारत के चैथे राष्ट्रपति श्री वी.वी. गीरी ने रेल परिवहन संग्रहालय के लिए नींव रखी थी। संग्रहालय का उद्घाटन 19 फरवरी 1977 को हुआ था और यह संग्रहालय मुख्य रूप से भारत की रेलवे विरासत पर केंद्रित है। संग्रहालय में 11 एकड़ से अधिक भूमि क्षेत्र शामिल हैं और इनडोर गैलरी में एक सुंदर रूप से डिजाइन अष्टकोणीय भवन शामिल है, छः दीर्घाओं का आवास है, और एक बड़े खुले क्षेत्र में रेलवे यार्ड के वातावरण का अनुकरण करता है।

रेल संग्रहालय की सबसे आश्चर्यजनक विशेषता है, यह एक खिलौना ट्रेन हैं। जो बच्चों और रेल के शौकीनों को आकर्षित करती है और साथ ही एक आनंदपूर्ण सवारी प्रदान करती है। संग्रहालय में रेल के इंजनों को देखें जैसे डीजल, इलेक्ट्रिक और स्टीम इंजनों, और एक के बाद एक पर सवारी करें। नाव की सवारी यहां भी उपलब्ध है। पुराने स्ट्रीम मोनोरेल भी परिसर में चलती है। ट्रेनों पर छूने या चढ़ने पर बच्चों पर कोई प्रतिबंध नहीं है क्योंकि यह संग्रहालय की सबसे अच्छी सुविधा है। खिलौना ट्रेन की सवारी, लघु भारत, रेल गार्डन, इनडोर गैलरी, इसके कुछ नए आकर्षण हैं राष्ट्रीय रेल संग्रहालय सभी उम्र के आगंतुकों के लिए पूरे वर्ष विशेष गतिविधियों का आयोजन करता है। संग्रहालय का मुख्य आकर्षण पटियाला राज्य मोनोरेल ट्रेन है जिसकी एक अनोखी स्टीम मोनोरेल 1907 में बनाई गई थी। सबसे पुराना काम कर रहे भाप से चलने वाले इंजन ‘फेयरी क्वीन’ को गिनीज बुक वल्र्ड रिकाॅर्ड में शामिल किया गया है।

फायर इंजिन, प्रिंस ऑफ वेल्स के सैलून, इंदौर के महाराजा का सैलून, मैसूर के महाराजा का सैलून, इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव 4502 सर लेस्ली विल्सन, इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव सर रोजर लुमले, इसके मुख्य आकर्षण हैं। संग्रहालय के अंदर स्थित स्मारिका शॉप मंगलवार से रविवार तक सुबह 10.00 से 5.00 बजे तक खुला रहती है। स्मृति चिन्ह सभी के लिए सस्ती कीमत पर दिया जाता है।

राष्ट्रीय रेल संग्रहालय, नई दिल्ली को गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड्स में अपना नाम शामिल कराया है। इसे राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है। बच्चों और रेल प्रेमियों को एक ऐसा संग्रह देखते है जो सदैव याद रहता है, जो कि भारत में सबसे बड़ा संग्रह है।

संग्रहालय सोमवार को छोड कर सुबह 9.30 से- 5.30 बजे तक सप्ताह के सभी दिनों में खुलता है। प्रवेश टिकट 20 रुपये प्रति व्यक्ति हैं। यह संग्रहालय रेलवे के एक बड़ा संग्रह को प्रदर्शित करता है जो अवकाश के दिन को मनोरंजन, इतिहास, विरासत से भर देता है।

Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ चाहिए हैं :

मानचित्र में राष्ट्रीय रेल संग्रहालय

वेब के आसपास से

    We use cookies in this webiste to support its technical features, analyze its performance and enhance your user experience. To find out more please read our privacy policy.