facebook

राष्ट्रपति भवन

राष्ट्रपति भवन या राष्ट्रपति महल दिल्ली का एक महत्वपूर्ण स्मारक हैं। इस भवन की इंपीरियल वास्तुकला लुटियंस और बेकर से प्रेरित थी और इसे ब्रिटिश शासन के दौरान भारत के वाइसराय और गवर्नर जनरल के निवास के रूप में बनाया गया था। सन 1950 तक इसे वाइसरॉय हाउस बोला जाता था। राष्ट्रपति भवन नई दिल्ली, भारत में राज पथ के पश्चिमी छोर पर स्थित भारत के राष्ट्रपति का आधिकारिक घर है। इसमें 340-कमरे की मुख्य इमारत है, जिसमें राष्ट्रपति के आधिकारिक निवास, हॉल, अतिथि कमरे और कार्यालय हैं, और यह भवन 130-हेक्टेयर (320 एकड़) जमीन पर राष्ट्रपति एस्टेट का भी उल्लेख किया जाता है जिसमें अतिरिक्त राष्ट्रपति गार्डन (मुगल गार्डन), बड़े खुले स्थान, अंगरक्षकों और कर्मचारियों के घरों, अस्तबलों, अन्य कार्यालयों और उपयोगिताओं को इसकी परिधि की दीवारों में शामिल किया गया है।

राष्ट्रपति भवन, विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के राष्ट्रपति का घर है, भारत की ताकत का प्रतीक है, अपनी लोकतांत्रिक परंपराओं और धर्मनिरपेक्ष यह चरित्र 1929 में पूरा हुआ। इस भवन को 15 अगस्त 1947 में सरकारी हाउस कहा गया था जब भारत स्वतंत्र हुआ था और बाद में राष्ट्रपति डॉ0 राजेंद्र प्रसाद की अवधि के दौरान राष्ट्रपति भवन में बदल गया।

राष्ट्रपति भवन के मुख्य भवन और केंद्रीय लॉन शुक्रवार, शनिवार और रविवार को खुलेते है। राष्ट्रमंडल भवन म्यूजियम कॉम्प्लेक्स जिसमें क्लॉक टॉवर, द टेबल्स और गैरेज शामिल हैं, सोमवार को छोड़कर सभी दिनों में खुलेते है, और मुगल गार्डन और अन्य उद्यान शुक्रवार, शनिवार और रविवार को सुबह 9 से दोपहर 4 बजे तक अगस्त से मार्च तक खुलेते है।

राष्ट्रपति भवन की महिमा बहु-आयामी है। यह विशाल ईमारतों में से एक है और इसकी वास्तुकला लुभावनी है। इस इमारत ने एक सतत दरबार की स्थापना की मोहर लगाई है। 26 जनवरी 1950 को शाश्वत दरबार लोकतंत्र की स्थायी संस्था बन गई थी, जब डॉ राजेंद्र प्रसाद भारत के पहले राष्ट्रपति बने और भारत के संविधान की सुरक्षा, रक्षा और बचाव करने के लिए इस इमारत पर कब्जा कर लिया। भवन के निर्माण की लागात की प्रारंभिक राशि 400,000 पाउंड थी, लेकिन इसकी लागत 877,136 पाउंड (फिर 12.8 मिलियन) हो गई। सइ भगवन का कार्य सत्रह वर्षों के लंबे समय में पूरा हुआ था, जिसे चार वर्षों में पूरा किया जाना था।

राष्ट्रपति भवन का सबसे प्रमुख और विशिष्ट पहलू यह गुंबद है जो इसकी संरचना पर आरोपित है। दिल्ली के केंद्र में स्थित यह भवन गोलाकार आधार के कारण इस भवन को प्रत्येक नागरिक द्वारा काफी दूरी से देखा जा सकता है। पूरे राष्ट्रपति भवन में बौद्ध रेलिंग, छज्जा, छतरियों और जालियां जैसे भारतीय वास्तुशिल्प की छवि शामिल हैं क्योंकि यह सांची के स्तूप से प्रेरित था। राष्ट्रपति भवन की वास्तुकला की एक और महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि भवन के खंभे में भारतीय मंदिर की घंटी का उपयोग किया गया है। यह माना जाता है कि खंभे में ऐसी घंटियां अपनाने का विचार कर्नाटक के मूडबिद्री में एक जैन मंदिर से आया था।
इस भवन का पहली बार पुनः निर्माण का कार्य सन् 1985 में शुरू किया जो सन् 1989 में पूरा हो किया गया था। जिसके दौरान अशोक हाॅल को इसकी वास्तुविक छवि को छेडे बिना कुछ हिस्सा जोडा़ और कुछ सुधारा गया था जिसका कार्यभार वास्तुशिल्पकार सुनीता कोहली ने किया था।

विशेष

  • भारत के राष्ट्रपति, उन कक्षों में नहीं रहते, जहां वाइसरॉय रहते थे, बल्कि वे अतिथि कक्ष में रहते हैं। प्रथम भारतीय गवर्नर जनरल श्री.सी.राजगोपालाचार्य को स्वामी शयन कक्ष, अपनी विनीत नम्र रुचियों के कारण, अति आडम्बरिक लगा। उनके उपरांत सभी राष्ट्रपतियों ने यही परंपरा निभाई।
  • भारत का राष्ट्रपति भवन, विश्व के किसी भी राष्ट्रपति आवास से कहीं बड़ा है।
  • यहां की गुलाब वाटिका, जो कि मुगल उद्यान का एक अंश है, में अनेकों प्रकार के गुलाब लगे हैं, जो कि जन साधारण हेतु, प्रति वर्ष फरवरी माह के दौरान खुलती है।
  • इस भवन के निर्माण में लोहे का नगण्य प्रयोग हुआ है।
  • राष्ट्रपति भवन में 340 कक्ष हैं।

Read in English...

मानचित्र में राष्ट्रपति भवन

आपको इन्हे देखना चाहिए Delhi - Monuments

    We use cookies in this webiste to support its technical features, analyze its performance and enhance your user experience. To find out more please read our privacy policy.