facebook

चित्तौड़गढ़ किला

चित्तौड़ किला या चित्तौड़गढ़ भारत के सबसे बेहतरीन स्मारकों में से एक है और भारत में सबसे बड़े किला हैं। चित्तौड़गढ़, जिसे चित्तौड़ भी कहा जाता है, 7वीं से 16वीं शताब्दी तक, राजपूतों के तहत मेवाड़ की राजधानी थी। चित्तौड़गढ़ किला राजस्थान में सबसे प्रसिद्ध किला है। यह किला 7वीं शताब्दी में विभिन्न मौर्य शासकों द्वारा बनाया गया था। ऐसा कहा जाता है महाभारत काल में पांडव भाईयों में से भीम ने इस किले का निर्माण किया था।

चित्तौड़गढ़ किला, जो 180 मीटर ऊंचा पहाड़ी पर खड़ा है, 700 एकड़ में फैला है। यह उदयपुर से 112 किलोमीटर की दूरी पर, राजस्थान में चित्तौरगढ़ में गम्भरी नदी के पास एक उच्च पहाड़ी पर स्थित है। यह सप्ताह के सभी दिनों सुबह 9ः45 से - शाम 6ः30 बजे तक खुलता है। किले में रोमांस, साहस, दृढ़ संकल्प और त्याग की एक लंबी कहानी है। इस राजसी किले का इतिहास खिलजी के समय में देखा जा सकता है। किले पर तीन बार हमला किया गया और हर बार राजपूत योद्धाओं द्वारा इस किले का बचाया गया। 1303 में रानी पद्मनी के अपना बनाने की अपनी इच्छा पूरी करने के लिए आलौदिन खिलजी द्वारा पहली बार किला पर हमला किया गया था। यह माना जाता है कि रानी पद्मनी और राजदबार की महिलाओं ने अल्लाउद्दीन खिलजी के समाने प्रस्तुत होने के बजाय आग की चिता में बलिदान किया था। इस बलि को किले की महिलाआंे द्वारा ‘जौहर’ कहा जाता है। दूसरी बार, किले को 1535 में गुजरात के सुल्तान बहादुर शाह ने बर्खास्त कर दिया था जिससे विशाल विनाश हुआ। तीसरा हमला मुगल सम्राट अकबर द्वारा 1567 में महाराणा उदय सिंह पर विजय प्राप्त करने के लिए किया गया था। अंततः 1616 में मुगल सम्राट जहांगीर के शासन के तहत किल को राजपूतों में वापस कर दिया गया था।

चित्तौड़ का किला देश के सबसे उत्कृष्ट किलों में से एक माना जाता है और वास्तव में ‘राजस्थान राज्य का गौरव’ है। यह माना जाता है कि चित्तौड़गढ़ का नाम चित्ररंगा से लिया गया है, जो स्थानीय कबीले के शासक था खुद को मौर्य बताता था। एक अन्य लोककथा का मानना था कि भीम ने किले के निर्माण के लिए, जमीन पर जोर से मारा और जिससे सतह पर भीमलेट कुंड बना। किले के अंदर भगवान कृष्ण और खूम्बा श्याम के प्रफुल्लित भक्त मीरा के मंदिर हैं। चित्तौड़गढ़ किला को जल किले के रूप में भी जाना जाता है। किले में 84 जल स्त्रोत थे, जिनमें से केवल 22 मौजूद हैं जो कुँए, कुंड, और बावरी शामिल हैं। यह किला 700 हेक्टेयर से अधिक में फैला हुआ है, जिसमें जल स्त्रोत का 40 प्रतिशत हिसा हैं। औसत जलाशय गहराई लगभग 2 मीटर है इसलिए, इन जलाशयों में लगभग 4 बिलियन लीटर पानी जमा कर सकते हैं और चार साल तक 50,000 की सैनिकों की प्यास बुझा सकते है।

विजय स्तंभ (स्तंभ), किर्ती स्तम्भ, गौमुख जलाशय, राणा कुंभ पैलेस, पद्मिनी पैलेस और किले के सात दरवाजें इसके कुछ प्रमुख आकर्षण हैं। किले मोटे तौर पर एक मछली के आकार में बना हुआ हैं। किले परिसर में 65 ऐतिहासिक इमारतें हैं, जिनमें से 4 महल परिसर, 19 मुख्य मंदिर और 4 स्मारक हैं। किले की संरचनाएं और विशेषताएं राजस्थानी वास्तुकला की शैली को दर्शाती हैं।

चित्तौड़गढ़ शहर और यह किला ‘जौहर मेला’ नामक सबसे बड़े राजपूत त्योहार की मेजबानी करता है। ध्वनि और लाइट शो यहां भी आयोजित किया जाता है और यह 7 बजे से शुरू होता है। वर्ष 2013 में चित्तौड़गढ़ किला को यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल घोषित किया गया था।

Read in English...

मानचित्र में चित्तौड़गढ़ किला

आपको इन्हे देखना चाहिए Rajasthan - Monuments

    We use cookies in this webiste to support its technical features, analyze its performance and enhance your user experience. To find out more please read our privacy policy.