ब्रह्मा मंदिर पुष्कर

Short information

  • Location: Brahma Temple Road, Ganahera, Pushkar, Rajasthan 305022
  • Temple Open and Close Timing:
  •  Winter - 06:30 am to 08:30 pm, Summer - 06:00 am to 09:00 am.
  • In special days visiting times can be changed.
  • Nearest Railway Station: Ajmer Railway station at a distance of nearly 33 kilometres from Brahma Temple.
  • Nearest Airport: Jaipur Airport at a distance of nearly 152 kilometres from Brahma Temple.
  • Primary deity: Lord Brahma
  • District: Ajmer.
  • Did you know: This place is also donated by people to the masses of their ancestors. The present temple structure dates to the 14th century, the temple is believed to be 2000 years old.

ब्रह्मा मंदिर एक हिन्दू मंदिर जो कि भगवान ब्रह्मा जी का समर्पित है। यह मंदिर पुष्कर, राजस्थान, भारत में स्थित है। हिन्दू धर्म में ब्रह्मा जी को जगतपिता कहा जाता है क्योकि ब्रह्मा जी ने जगत की रचना की थी। ब्रह्मा जी का यह मंदिर भारत के प्रसिद्ध मंदिरो में से एक है तथा ब्रह्मा जी के अन्य मंदिरों में से यह मंदिर सबसे प्रमुख है। मंदिर के पास पवित्र पुष्कर झील है। इस स्थान पर लोगों द्वारा अपने पुर्वजों का पिण्ड दान भी किया जाता है।

ब्रह्मा मंदिर की वर्तमान संरचना 14वीं शताब्दी की है तथा ऐसा माना जाता है कि यह मंदिर 2000 वर्ष पुराना है। कहा जाता है कि पुष्कर में 500 से ज्यादा हिन्दू मंदिर थे। मुगल सम्राट औरंगजेब के शासनकाल (1658-1707) में ज्यादातर मंदिरों में नष्ट कर दिया गया था। लेकिन बाद में कुछ मंदिरों को फिर से बनाया गया था, इनमें से सबसे महत्वपूर्ण ब्रह्मा मंदिर है।

ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर को ब्रह्मा जी के यज्ञ के बाद ऋषि विश्वामित्र द्वारा निर्मित किया गया था। यह भी माना जाता है कि ब्रह्मा ने स्वयं अपने मंदिर के लिए यहीं स्थान चुना था। 8वीं शताब्दी के हिन्दू दार्शनिक आदि शंकराचार्य जी ने इस मंदिर का पुनर्निर्माण किया, जबकि वर्तमान मध्ययुगीन संरचना रतलाम के महाराजा राजा जवाट के द्वारा की गई थी। राजा जवाट ने मंदिर की अतिरिक्त मरम्मत कि और मंदिर के मूल डिजाइन को बरकरार रखा गया है।

हिन्दू ग्रंथ पद्य पुराण के अनुसार ब्रह्मा जी ने एक दानव वज्रांभ को देखा जिसने आतंक मचा रखा था। ब्रह्मा जी ने उस राक्षस को मार दिया इस दौरान ब्रह्मा जी के हाथ से कमल का फूल पृथ्वी पर गिरा, वहां पर पुष्कर झील उत्पन्न हुई। कमल के फूल के गिरने पर फूल तीने हिस्सों में टूट गया और  तीन स्थानों पर गिरा, जहां पर ज्येष्ठ पुष्कर, मध्य पुष्कर और कनिष्ठ पुष्कर झील उत्पन हुई। तब ब्रह्मा जी ने इस स्थान पर आये और जहां फूल (‘पुष्पा’) ब्रह्मा जी के हाथ (‘कर’) से गिरा इस स्थान का नाम ‘पुष्कर’ पड़ा।

ब्रह्मा जी ने मुख्य पुष्कर झील के पास समाज के कल्याण के लिए यज्ञ करने का फैसला किया। ब्रह्मा जी यज्ञ को शांति पूर्ण करने के लिए उन्होंने पुष्कर के दक्षिण पर रत्नागिरि, उत्तर में नीलगिरि, पश्चिम में संछूरा और पूर्व में सूर्यगिरि पहाड़ियों का निर्माण किया। यज्ञ के प्रदर्शन की रक्षा के लिए वहां देवताओं की स्थापना की। हालांकि, यज्ञ करते समय, उनकी पत्नी सरस्वती यज्ञ में भाग करने के लिए निर्दिष्ट समय पर मौजूद नहीं हो सकती क्योंकि वह अपने साथी देवी लक्ष्मी, पार्वती और इंद्राणी की प्रतीक्षा कर रही थी। क्योंकि यज्ञ को पत्नी के बिना पुरा नहीं किया जा सकता था। तो ब्रह्मा ने गायत्री से शादी कर ली और यज्ञ को पूरा करने के लिए उसे अपने पास बैठाया और अपने नए विवाह के साथ यज्ञ को पूरा कर लिया।

जब सरस्वती अंततः स्थल पर पहुंची तो उसने गायत्री को ब्रह्मा के बगल में बैठे पाया, जो देवी सरस्वती का स्थान था। गुस्से में सरस्वती ने ब्रह्मा जी को श्राप दिया कि बेशक वह एक देवता है परन्तु कभी भी उनकी पूजा नही होगी। क्योकि ब्रह्मा जी का साथ भगवान विष्णु जी ने दिया था। देवी सरस्वती ने भगवान विष्णु को भी श्राप दिया कि वह भी अपनी पत्नी से अलग हो जायेगें। तब देवी गायत्री ने सरस्वती से आग्रह किया कि अपने श्राप को वापिस ले, परन्तु जब देवी सरस्वती का गुस्सा शान्त हुआ तो देवी ने ब्रह्मा जी को सिर्फ इतना कहा कि ब्रह्मा जी की पूजा केवल पुष्कर में ही होगी। विष्णु, राम के रूप में जन्म लेंगे और अंत में अपनी पत्नी से अलग होगें। इस प्रकार, पुष्कर मंदिर को ब्रह्मा को समर्पित एकमात्र मंदिर माना जाता है। उसके बाद सरस्वती (सावित्री), रत्नागिरि पहाड़ी में चले गई, यहां उनके सम्मान में एक मंदिर मौजूद है। जिसको पुष्कर झील से देखा जा सकता है।

ब्रह्मा मंदिर के पुजारी द्वारा सख्त नियमों का पालन किया जाता है। इस मंदिर में विवाहित पुरुष को देवता की पूजा करने व पवित्र स्थान में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है यहां केवल संन्यासी ही देवता की पूजा कर सकते हैं। इसलिए, तीर्थयात्रियों द्वारा सभी भेंट मंदिर के बाहरी हॉल से, एक पुजारी के माध्यम से दिया जाता है जो एक संन्यासी है। पुष्कर में सामान्य रूप से मंदिर के पुजारी, पराशर गोत्र (वंश) से संबंधित हैं।

कार्तिक पुर्णिमा (अक्टूबर-नवंबर) जो एक साल में, एक धार्मिक उत्सव ब्रह्मा के सम्मान में आयोजित किया जाता है। हजारों तीर्थयात्री मंदिर के निकट पवित्र पुष्कर झील में स्नान करने आते हैं। मेले के दौरान मंदिर में विभिन्न संस्कार भी आयोजित किए जाते हैं। यह दिन भी प्रसिद्ध पुष्कर ऊंट मेला, के पास आयोजित करता है। सभी पूर्णिमा और अमावस्य पर विशेष संस्कार किया जाता है।

Read in English...

मानचित्र में ब्रह्मा मंदिर पुष्कर

वेब के आसपास से

Coming Festival/Event

    We use cookies in this webiste to support its technical features, analyze its performance and enhance your user experience. To find out more please read our privacy policy.