श्री भैरव जी की आरती

Short information

  • Bhairav ji has a special place in the incarnations of Lord Shiva. Bhairav Sadhana prevents premature death, and the ghost-eagle protects us from black magic.
  • Timings : Shri bhairav Aarti at 5:15 AM (Morning) and at 7:15 PM (Evening)

जय भैरव देवा प्रभु जय भैरव देवा |
जय काली और गौरा कृतसेवा ||

तुम पापी उद्धारक दुख सिन्धु तारक |
भक्तों के सुखकारक भीषण वपु धारक ||
जय भैरव देवा प्रभु जय भैरव देवा |

वाहन श्वान विराजत कर त्रिशूल धारी |
महिमा अमित तुम्हारी जय जय भयहारी ||
जय भैरव देवा प्रभु जय भैरव देवा |

तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होवे |
चतुर्वतिका दीपक दर्शन दुःख खोवे ||
जय भैरव देवा प्रभु जय भैरव देवा |

तेल चटकी दधि मिश्रित माषवली तेरी |
कृपा कीजिये भैरव करिये नहीं देरी ||
जय भैरव देवा प्रभु जय भैरव देवा |

पाँवों घुंघरू बाजत डमरू डमकावत |
बटुकनाथ बन बालक जन मन हरषवत ||
जय भैरव देवा प्रभु जय भैरव देवा |

बटुकनाथ की आरती जो कोई जन गावे |
कहे ' धरणीधर ' वह नर मन वांछित फल पावे ||
जय भैरव देवा प्रभु जय भैरव देवा |

Read in English...

श्री भैरव जी की आरती बारे में

वेब के आसपास से

    We use cookies in this webiste to support its technical features, analyze its performance and enhance your user experience. To find out more please read our privacy policy.