गौरी शंकर मंदिर

Short information

  • Location: 2573, Chandni Chowk Rd, Chandni Chowk, Delhi, 110006.
  • Nearest Metro Station : Chandni chowk Metro Station at a distance of nearly 1 kilometres from Gauri Shankar Mandir.
  • Nearest Railway Station: Old Delhi Railway Station at a distance of nearly 1.2 kilometres from Gauri Shankar Mandir.
  • Open : All Days
  • Timings: 5.00 am to 10.00 am and 5.00pm to 10.00 pm (best to visit during the morning and evening aarti
  • Photography Charges: Not allowed in prayer hall
  • Did you Know: The temple has an 800 year old brown Lingam (phallus stone) encased in a marble representation of a female organ. The Lingam is surrounded by snakes made up of silver and represents a cosmic pillar, the centre of universe or life.

800 वर्षीय गौरी शंकर मंदिर एक हिंदू मंदिर है और दिगंबर जैन लाल मंदिर के पास चांदनी चैक में मुख्य पुरानी दिल्ली सड़क पर स्थित है। गौरी शंकर मंदिर पूर्णतः भगवान शिव को समर्पित है और भगवान शिव के सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक है। मंदिर में एक 800 वर्षीय भूरे रंग के शिव लिंग (पंख का पत्थर) महिला गुप्त अंग जोकि संगमरमर से बना है, प्रतिनिधित्व में घिरा हुआ है। शिव लिंग चांदी के बने सांपों से घिरा हुआ है और एक ब्रह्मांडीय स्तंभ, ब्रह्मांड का केंद्र या जीवन का प्रतिनिधित्व करता है।

इतिहास के अनुसार मंदिर भगवान गंगा धर द्वारा बनाया गया था, एक मराठा सिपाही जो भगवान शिव का भक्त था। वह एक युद्ध में एक बार गंभीर रूप से घायल हो गया था और उनके जीवत रहने की संभावना निराशाजनक थी। इसलिए, उन्होंने भगवान शिव से अपने जीवन के लिए प्रार्थना की और यदि वह बच गया तो एक सुंदर मंदिर बनाने का वादा किया। वह सभी बाधाओं को हटाते हुये मंदिर का निर्माण किया। मंदिर का मुख्य प्रवेश द्वार के निकट निचली हिस्से में उसका नाम हिंदी में अंकित है। 1959 में, सेठ जयपुरा ने मंदिर का पुनर्निर्माण किया और उसका नाम मंदिर की खिड़कियों पर अंकित किया गया। मंदिर के अंदर, भगवान शिव और उनकी पत्नी पार्वती (गौरी-शंकर) और उनके दो पुत्र, गणेश और कार्तिक मूर्तिया स्थिपित हैं। भगवान शिव और पार्वती की मूर्तियां जो कि शिव लिंग के पीछे है के आभूषण असली सोने से बने है व भगवान शिव लिंग के चारों ओर चांदी से बना हैं। लिंगम के पास भी एक रजत पानी का पोत है जिसमें पानी की बूंदें लगातार गिरती रहती हैं।

मंदिर का दौरा करने का सबसे अच्छा समय शिवरात्रि के त्यौहार के दौरान होता है जब यह शानदार ढंग से सजाया जाता है और भक्ति गतिविधियों से भरा होता है। कोई विशेष रूप से सोमवार को मंदिर में जा सकता है, जो भगवान शिव का दिन है। मंदिर पूरे वर्ष खाला रहता है और सभी जातियों और पंथ के आगंतुकों का स्वागत करता है।

Read in English...

गौरी शंकर मंदिर फोटो गैलरी

गौरी शंकर मंदिर वीडियो गैलरी

मानचित्र में गौरी शंकर मंदिर

वेब के आसपास से

    We use cookies in this webiste to support its technical features, analyze its performance and enhance your user experience. To find out more please read our privacy policy.