आदि बद्ररी मंदिर

Short information

  • Location: NH109, Aadibadri, Uttarakhand 246440
  • Open and Closing Timings : 06:00 am to 07:00 pm. 16 December to Close and 14 January to Open in the every year. The temple is closed every year for one month.
  • Best time to visit : Feburary to November.
  • Nearest Railway Station : Rishikesh railway station at a distance of nearly 189 kilometres from Aadi badri Temple.
  • Nearest Airport : Jolly Grant airport of Dehradun at a distance of nearly 207 kilometres from Aadi badri Temple.
  • By Road: The trip to Adi Badri usually begins from Haridwar passing through Rishikesh-Devprayag–Rudraprayag–Karnaprayag–Adi badri. The other route is from Nainital or Ramnagar to Ranikhet and then to Karnaprayag via Chakhutiya. From Karnaprayag Adi badri is just 19 kms.
  • Did you know: Adi Badri temple is the first temple in Panch Badri and Saptya Badri. This temple was built during the Gupta period and from the 5th century to the 8th century.

आदि बद्ररी हिन्दूओं का प्रसिद्ध एवं प्राचीन मंदिर है। जो कि भारत के राज्य उत्तराखंड, चमेली जिला में स्थित है। यह मंदिर कर्णप्रयाग से 17 किलोमीटर एव चमेली जिले के पिंडार नदी और अलकनंदा नदी के संगम पर स्थित है। आदि बद्ररी मंदिर पंच बद्री और सप्त बद्री में पहला मंदिर है। आदि बद्ररी 16 मंदिरों का समूह है। माना जाता है कि यह मंदिर गुप्त काल एवं 5वीं शताब्दी से 8वीं शताब्दी के दौरान बनाये गये थे।

ऐसा माना जाता है कि इस मंदिरों को निर्माण आदि शंकराचार्य ने किया था। उत्तराखंड क्षेत्र में कई मंदिरों के निर्माण के लिए आदि शंकराचार्य को श्रेय दिया जाता है। आदि शंकराचार्य द्वारा इन मंदिरों के निर्माण उद्देश्य देश के हर दूरदराज हिस्से में हिन्दू धर्म का प्रचार करना था। इस मंदिरों के समूह में 16 मंदिर में जिनमें से 2 मंदिर का जीर्णशीर्ण हो चुके है। इन मंदिरों के समूह में मुख्य मंदिर भगवान विष्णु का है और इस मंदिर के विशेषता यह है कि मंदिर में भगवान विष्णु की प्रतिमा यहां खड़े रूप में है जो 3.3 फुट ऊचीं काले रंग के पत्थर से बनी हुई है। प्रतिमा में विष्णु के हाथों में एक गदा, कमल और चक्र का चित्रण किया गया है। इन मंदिरों के रखरखाव का कार्य भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा किया जाता है।

आदि बद्ररी चांदपुर किले से 3 किलोमीटर (1.9 मील) या गढ़ी पहाड़ी की चोटी पर स्थित है, जिसे गढ़वाल के परमार राजाओं द्वारा बनाया गया था। आदि बद्ररी कर्णप्रयाग से एक घंटे की ड्राइव और रानीखेत के रास्ते चूलकोट के करीब है। बद्रीनाथ (जिसे राज बद्री भी कहा जाता है) के स्थान पर भव्य बद्र को स्थानांतरित करने पर, आदि बद्री को योग बद्री कहा जाएगा।

Read in English...

मानचित्र में आदि बद्ररी मंदिर

वेब के आसपास से

Coming Festival/Event

    We use cookies in this webiste to support its technical features, analyze its performance and enhance your user experience. To find out more please read our privacy policy.